चावल के पापड़ बनाने की विधि – Chawal Ke Aate Ke Papad

तला भुना खाने के शौकीन लोगों को पापड़ खाना बहुत पसंद होते हैं। साधा खाने के साथ तले हुए पापड़ मिल जाए तो खाने का मजा दुगना हो जाता है। धूप के दिनों में फीकी दाल, चावल, अचार और साथ में पापड़ मिल जाए तो मन खुश हो जाता है। आज हम चावल के पापड़ बनाने वाले हैं। यह पापड़ खाने में स्वादिष्ट और पतले होते हैं। इसे छोटे बच्चों से लेकर घर के सभी सदस्य पसंद करेंगे।

चावल के पापड़ बनाना कोई मुश्किल काम नहीं। हां थोड़ा मुश्किल जरूर है लेकिन एक बार इसे बना लिया तो पूरे साल खाने का मजा उठा पाएंगे। आज हम चावल के पापड़ बनाने की विधि बता रहे हैं। इसे बनाने के लिए कड़क धूप की जरूरत होती है और 2 दिन धूप में सुखाने के बाद पापड़ खाने के लिए तैयार हो जाएंगे और पूरे साल पापड़ खाने का लुफ्त उठा पाएंगे।

तो चलिए देर ना करते हुए chawal ke aate ke papad बनाना शुरू करते हैं। आप बताई गई विधि के अनुसार फटाफट चावल के आटे के पापड़ बना सकती है। इसे बनाने के लिए ज्यादा सामग्री की जरूरत नहीं है, जितनी भी चाहिए हमने नीचे बताई है। आप ध्यान से रेसिपी को पढ़े और धुप के दिनों में पापड़ बना कर तैयार करें।

आवश्यक सामग्री

चावल का आटा 1 कटोरी
अजवाइन 1 चम्मच
स्वादानुसार नमक
तेल 1 कटोरी
प्लास्टिक की पन्नी

विधि

चावल के पापड़ बनाने के लिए सबसे पहले चावल के आटे को छलनी से छान लें। अब छने हुए आटे को बड़े बर्तन में डाले फिर इसमें 5 कटोरी पानी डालें, जिस कटोरी से हमने चावल का आटा लिया है उसी कटोरी से पानी भी मिलाएंगे। अब पानी में आटे को चम्मच से अच्छी तरह मिला लें ताकि कोई गांठ बाकी ना रहे।

अब बर्तन को मीडियम आंच पर पकाएं। इसे 10 मिनट के लिए चम्मच से मिलाते हुए पकाना है ताकि स्मूथ बेटर तैयार हो जाए। कुछ ही समय में बेटर में बुलबुले आना शुरू हो जाएंगे। अब इसमें नमक और अजवाइन डालकर मिला दें और बेटर को गाढ़ा और स्मूथ होने तक पकाएं। परफेक्ट बेटर बन जाए तब गैस बंद कर दे। (बिना धुप में सुखाए आलू चिप्स बनाए)

अब प्लास्टिक की पन्नी पर तेल लगा दे ताकि पापड़ निकालते समय आसानी से निकल पाए। अब एक चम्मच बेटर ले और पन्नी पर डाल दें और चम्मच से गोल आकार में फैला दें। ठीक इसी तरह बने हुए बेटर से सारे पापड़ तैयार कर लें। अब इसे 2 दिन कड़क धूप में सुखाना है। पापड़ सूख जाने के बाद तलने के लिए तैयार है।

चावल के पापड़ तैयार हो चुके हैं खाने के लिए। इसे सावधानी से डिब्बे में भरकर पूरे साल जब भी मन करे तब तल सकते है। पापड़ खाने का असली मजा, तुवर की फीकी दाल, चावल और साथ में अचार हो तो खाने का मजा दुगना हो जाता है। (सालो साल ख़राब नहीं होगा ये अचार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.